बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ योजना का नई पहल के साथ शुरुआत

0

हाल ही में सरकार देश की बेटियों के लिए बहुत सारी योजनाएं ला रही हैं। उसमे से ही एक योजना है बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ। हालाकि यह योजना का शुरूआत 2015 में मोदी सरकार द्वारा किया गाया था। लेकिन हर वर्ष सरकार इस योजना से जुड़ी कुछ बदलाव कर रही है। जिससे की देश की लड़कियां आत्मनिर्भर बने और किसी भी छोटे मोटे चीजों के लिए किसी पर निर्भर ना रहें।।।

योजना का विस्तार

जैसे की पहले समय में भारत में लड़कियों को किसी भी चीज की उतनी इजाजत नहीं दी जाती थी और उन्हे बहुत परदे में रहना पड़ता था। कहने को भारत विकसित हो तो रहा था लेकिन देश की महिलाएं उस विकास का हिस्सा नहीं बन रही थीं। इसी विषयों को मद्दे नजर रखते हुवे भारत सरकार ने 2015 में बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ योजना का अयोजन किया। जिसके अंतर्गत सरकार बच्चियों को पढ़ने के लिए मुफ्त शिक्षा प्रदान कर रही थी। साथ ही लोग घर घर जा कर लड़कियों को पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा था। इसके अलावा उच्च शिक्षा के लिए स्कॉलरशिप और ईनाम भी दिए गए थे।।।

हर वर्ष सरकार इस योजना में कुछ बदलाव लाती है। योजना के तहत लड़कियों के अस्तित्व, सुरक्षा और शिक्षा प्रदान की जाती है। पहले के जमाने के बेटी के जन्म लेने से लोग इसे बोझ समझते थे और कई जगह पर कन्या हत्या भी कर दी जाती थी। लेकीन सरकार के इस योजना से कन्या भ्रूण हत्या को को रोका जाएगा। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना को 2014 में शुरू किया गया था। 2014-2015 में केवल 100 जिले में आरंभ किया गया था। 2016 में 60 जिले और जोड़े गाए। अब यह योजना देश के हर एक जिले में आरंभ हो चुका है। इस योजना से कन्याओं के जीवन में भी सुधार आ रहा है।।।

शामिल किए गए नए तत्व

इस वर्ष बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ योजना में कुछ नए तत्व शामिल किए गए है। जैसे की लड़कियों को कौशल प्रदान करना, उच्च शिक्षा के लिए उनका नामांकन बढ़ाना, मासिक धर्म संबंधी स्वच्छता के लिए उन्हे जागरूक करना और बाल विवाह को पूरी तरह से समाप्त करने की पहल करना। इन नए तत्वों को योजना में जोड़ने का विचार बाल विकास सचिव इंदेवर पांडे जी का है।।।

योजना का मुख्य उद्देश्य

बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य बालिकाओं को आगे बढ़ाना है। क्युकी देश में ज्यादा तर लडको को पढ़ाई लिखाई के लिए प्रोत्साहित किया जाता हैं और लड़कियों के पढ़ाई लिखाई पर उतना ध्यान नहीं दिया जाता। इसलिए सरकार लड़कियों के पढ़ाई लिखाई में प्रोत्साहित करने के लिए उनको मुफ्त शिक्षा और अनेक ईनाम दे रही। इस तरह लड़कियां पढ़ लिख कर आत्मनिर्भर बनेगी।।।

योजना के लिए जिलाओ का चयन

  • पहले चरण के मुताबिक़ 100 जिलों का चयन किया गया था। इन 100 जिलों का चयल वहा के CSR के मुताबिक किया गया था। करीब 87 जिले ऐसे थे जिनका CSR 918 से कम था। 8 जिले ऐसे थे जिनका CSR 918 से कम होता जा रहा था और 5 जिले ऐसे थे जहा का CSR 918 से अधिक जा रहा था।।।
  • दूसरे चरण में अन्य 61 जिलाओं को शामिल कर दिया गया।।।

आवेदन करने की प्रक्रिया

आवेदन का लाभ उठाने के लिए लोगो को आवेदन करना होगा। नीचे आवेदन करने की प्रक्रिया दी हुई है।

  • सबसे पहले महिला और बाल विकास मंत्रालय की Official Website पर पर लॉगिन करे।
  • इसके बाद होम पेज पर दिए गए women empowerment scheme पर क्लिक करे।
  • उसके बाद बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ योजना पर क्लिक केर।
  • खुले गए नोटिस को शयन से पढ़ें और उसके मुताबिक आवेदन करे।।।

बता दे की बिना आवेदन के इस योजना का कोई लाभ नहीं उठा सकते।।।

योजना से जुड़े FAQs

1. बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ योजना किसके द्वारा शुरू की गई है?

बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ योजना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा शुरू की गई है।

2. बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ योजना का आरंभ कब किया गया था?

बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ योजना का आरंभ 2015 में किया गया था।

3. योजना का मुख्य उद्देश्य क्या है?

योजना का मुख्य उद्देश्य बेटियों को पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित करना है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)
To Top