अयोध्या राम मंदिर में कैसे पा सकते है दर्शन

0

जैसे की आप सब जानते है की 22 जनवरी 2024 को अयोध्या में निर्माण किया गया श्री रामचंद्र जी के भव्य मन्दिर का प्राण प्रतिष्ठा और उदघाटन किया गया। इस दौरान कई श्रद्धालु उपस्थित हुई थे और उदघाटन के बाद अब अयोध्या के इस राम मंदिर में श्रद्धालुओं का आन जान लगा रहेगा। राम मंदिर में दर्शन पाने के लिए कुछ जानकारियां होनी जरूरी है। आप में से कोई भी अगर अयोध्या जा कर मंदिर में राम जी का दर्शन पाना चाहता है तो इस आर्टिकल को जरूर पढ़े क्युकी इसमें आपके जानकारी की सारी बातें हम बताने वाले है।।।

मंदिर खुलने का वक्त

अयोध्या राम मंदिर के द्वार खुलने और बंद करने का एक निर्धारित समय तय किया गया है। मंदिर का द्वार सुबह 6:30 बजे खुल जाता है और फिर दोपहर में 12 बजे बंद हो जाता। ऐसा माना जाता है की दोपहर 12 बजे कोई भी पूजा पाठ नही की जाती क्युकी वो भजन श्री राम का विश्राम का वक्त होता इसलिए मंदिर का पट 12 बजे बंद कर दिया जाता। फिर दुबारा द्वारा दोपहर में 2:30 बजे खुलती है। दोपहर 2:30 बजे से श्रद्धालु पुनः दर्शन पा सकते है। रात को 10 बजे फिर से मंदिर के द्वार बंद हो जाते जो की अगले दिन सुबह में ही खुलते।।।

कैसे पा सकते है दर्शन

अयोध्या के राम मंदिर में दर्शन पाने के लिए श्रद्धालु दूर दूर से आयेंगे। सबसे पहले राम मंदिर के परिसर का मुख्य प्रवेश द्वार मंदिर की दूरी 200 मीटर है। मंदिर के मुख्य प्रवेश द्वार के अंदर कोई भी वाहन लाना अनिवार्य है। बुजुर्ग और विकलांग के लिए व्हीलचेयर की सुविधा प्रदान की गई है। मुख्य द्वार से प्रवेश करने के बाद सिंह द्वार पर पहुंच कर 32 सीढियां चढ़ना होगा। सीढियां चढ़ते ही राम मंदिर में प्रवेश कर जायेंगे। इसके बाद पांच मंडप से होकर गर्भ गृह में 30 फीट की दूरी से श्री रामचंद्र जी का दर्शन करने को मिलेगा।।।

आरती का समय

दर्शन करने के बाद राम जी की आरती में शामिल होने के लिए इंतजार करना होगा क्युकी दिन भर में निर्धारित समय पर हो आरती की जाती है। सबसे पहले तो सुबह 4:30 बजे राम जी की मंगला आरती की जाती है। इसके बाद 6:30 बजे से 7 बजे तक श्रृंगार आरती की जाती है। 11:30 बजे प्रभु राम जी को भोग लगाया जाता और साथ में भोग आरती की जाती है। इसके बाद दोपहर में पट खुलते ही 2:30 बजे मध्यान आरती की जाती है। फिर संध्या 6:30 बजे संध्या आरती होती। और रात में 8:30 बजे से 9 बजे तक शयन आरती होती।।।

अभी श्रद्धालु सिर्फ शृंगार, भोग और संध्या आरती में ही शामिल हो सकते है। मंगला व शृंगार आरती के लिए अभी कोई भी व्यवस्था की घोसना नही की गई है।।।

आरती में कैसे होंगे शामिल

फिलहाल आरती में शामिल होने के लिए ट्रस्ट नियम अभी तैयार कर रहे है। तैयार किए गए नियमो के अनुसार ही आरती में शामिल हो सकते हैं। आरती में शामिल होने के लिए पास की सुविधा दी जा रही है। श्रद्धालु ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनो माध्यम से पास बनवा सकते है।।।

ऑफलाइन पास के लिए श्रीराम जन्मभूमि कैंप में जाना होगा। वहा जाकर श्रद्धालु अपना आईडी प्रूफ देंगे और श्रद्धालुओं को उनका पास मिल जाएगा।।।

ऑनलाइन पास के लिए https://online.srjbtkshetra.org/#/aarti website पर जा कर रजिस्ट्रेशन करना होगा। फिलहाल ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरु नही हुई है। 28 जनवरी से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की सुविधा शुरू कर दी जायेगी।।।

मंदिर का प्रसाद

राम मंदिर में भक्तो के बीच प्रसाद के रुप में इलाइची दाने का वितरण किया जायेगा। मंदिर के परिसर में भक्तो के लिए निशुल्क प्रसाद की व्यवस्था की गई है। भक्तो में ऑटोमैटिक मशीन के द्वारा प्रशाद का विवरण किया जाएगा। इस ऑटोमैटिक मशीन को दर्शनार्थियों के वापसी रास्ते में लगाया गया है।।।

परिसर की अनुमति लेकर श्रद्धालु भी रामलाल के लिए प्रशाद लेकर का सकते है। प्रशाद के रूप में शाकाहारी और शुद्ध मिठाई और मेवा आदि ले जा सकते है। अभी सूरक्षा को नज़र रखते हुए मंदिर में नारियल, फूल माला, श्रृंगार का सामान और अन्य चीज़ ले जाने की अनुमति नहीं है। साथ ही मन्दिर के अंदर पैसे और केवल जरूरी सामान ही ले जा सकते है। बाकी का सामान रखने के लिए लॉकर की सुविधा भी दी गई है।।।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)
To Top